Daily Calendar

शनिवार, 27 जुलाई 2013


काश ! ओ दिन आये जब करू आलिगंन तुझे अपने बांहों में भर कर , और तेरी ख़ामोशी का करू दीदार
ना तुम खामोश रही , ना मेरी जुब़ा खुली, महीने दर शाल गुजर गए इंतजार में, पर कर ना सका इजहार

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें