Daily Calendar

शनिवार, 24 अगस्त 2013


लाखो की हुजूम क्या संग हो लिए खुदको खुदा मान  लिए
उन ख़ुदा से डर जिनके रहमो करम पर मिली हैं ये जो भीख
वरना तेरा जर्रा-जर्रा हिल जायेगा, गर्त में तु  मिल जायेगा
ना रहेगी तेरी ये खुदाई, खन्दरमें बस गूंजती  रहेगी तेरी  चीख

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें